• NEW- ग्रामीण रोग नियंत्रण रोकथाम एवं जागरुकता कार्यक्रम के अन्तर्गत दूरस्थ प्रशिक्षण के माध्यम से ग्रामीण रोग नियंत्रक (Rural Disease Controller) के त्रिमासिक कोर्स में नि:शुल्क ऑनलाइन प्रवेश प्रारम्भ वेबसाइट -www.cmseddelhi.in
  • NATIONAL HEALTH PROBLEM IN INDIA

    We are working for control and prevention the problems of National Health in India.

    हमारा देश एक विशाल विकासशील देश है किसी भी समृधि राष्ट्र के विकाश में स्वास्थ शिक्षा सुरक्षा रोजगार आदि जैसे प्रमुख क्षेत्रों में उन्नति करना एवंम बेहतर सेवाये प्रदान करना ही प्रमुख कार्य होता है किन्तु हमारे देश में भी चिकित्सा विज्ञानं के क्षेत्र में हो रहे नये नये अनुसंधान (Research) के द्वारा बीमारियों का निदान (Diagnosis of diseases) उपचार (Treatment) तथा रोकथाम (Prevention) पहले की तुलना में अधिक प्रभावशाली एव आसान तरीके से संभव हो पाया है आज बीमारियों के निदान एवं उपचार हेतु बेहतर तकनीकों का उपयोग किया जाने लगा है किन्तु हमारे देश में –

    CH germs
    संचारी रोग

    संक्रामक बीमारियों की मौजुदगी आज भी एक प्रमुख स्वास्थ्य समस्या बनी है।- Read More

    image
    गैर-संचारी रोग

    असंक्रामक रोग-वे बीमारी जो एक व्यक्ति से दुसरें व्यक्ति से संचरित नही होती है,- Read More

    pohfg
    पोषण संबंधी समस्या

    पोषण सम्बन्धी बीमारियाँ भी देश की एक प्रमुख स्वास्थ्य समस्या है।Read More

    UN0281053
    चिकित्सा देखभाल समस्या

    जन समुदाय को प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य देखभाल का असमान बँटवारा होना Read More

    envorment-day
    पर्यावरण प्रदूषण की समस्या

    पर्यावरणीय अस्वच्छता भी हमारें देश की एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य समस्या है। Read More

    papu-1-copy
    जनसंख्या विस्फोट-

    गति से बढ़ती जनसंख्या हमारे देश की प्रमुख समस्या बनी है। बढ़ती हुई जनसंख्या गरीबी, बेरोजगारी, Read More

    राष्ट्रीय स्वास्थ समस्या (National Health Problem ) के रूप में स्वास्थ समस्या बनी हुई है जिनके लिए अनेक कारण उत्तरदायी है जिसमे जन-समुदाय को प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य देखभाल का असमान बँटवारा (Unequal distribution) होना देशवासियों के स्वास्थ्य स्तर के कमजोर होने का एक प्रमुख कारण है। भारत गाँवों का देश है तथा यहाँ की लगभग 80 प्रतिशत जनसंख्या गाँवों में तथा 20 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में निवास करती है। इसके विपरीत केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारों द्वारा प्रदान की जा रही स्वास्थ्य सेवाओं का लगभग 80 प्रतिशत भाग शहरी क्षेत्रों तक सीमित है। इनका केवल 20 प्रतिशत हिस्सा ही ग्रामीण तथा दूरवर्ती क्षेत्रों में निवास कर रहे लोगों तक पहुँच पाता है। इसका परिणाम यह निकलता है कि ग्रामीण क्षेत्रों (Rural areas) में निवास कर रहे लोग इन स्वास्थ्य सेवाओं से लाभान्वित नहीं हो पा रहे हैं। इस प्रकार स्पष्ट है की आज भी स्वास्थ संबंधी अनेक समस्यों ने हमे जकड़ा हुआ है जो कि हमारे देश कोविकसित राष्ट्रों की श्रेणी में शामिल होने में एक बड़ी बाधा बनी हुई हैंl रूरल हेल्थ फाउंडेशन राष्ट्रिय स्वास्थ समस्या (National Health Problem ) एवं अन्य ग्रामीण स्वास्थ्य समस्योंओ को कम करने हेतु ग्रामीण क्षत्रो में स्वास्थ से जुड़े लोगो की ऑनलाई ऑफलाईल एव संगोष्ठी (सेमिनार) आदि के माध्यम से स्वास्थ संबंधी समस्याओ की रोक थाम एव बचाव हेतु स्वास्थ विशेषज्ञयों के सहयोग से निरन्तर जानकारी देने का कार्य कर रही है,फाउन्डेशन ग्रामीण स्वास्थ सेवा को बेहतर बनाने एवं राष्ट्रिय स्वास्थ समस्या को कम करने हेतू प्रयासरत हैl

    OTHER RURAL HEALTH PROBLEM IN INDIA

    We are working for control and prevention the problems of National Health in India.

    * मानव शरीर रचना एवं क्रियाविज्ञान (Human Anatomy & Physiology)- Read More

    - ग्रामीण रोग नियंत्रण, रोकथाम एवं जागरुकता कार्यक्रम (R.D.C.P.) का उद्देश्य -

    जन-समुदाय को प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य देखभाल का असमान बँटवारा होना देशवासियों के स्वास्थ्य स्तर के कमजोर होने का एक प्रमुख कारण है | भारत गाँवों का देश है तथा यहाँ की लगभग 80 प्रतिशत जनसंख्या गाँवों में तथा 20 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में निवास करती है। इसके विपरीत केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारों द्वारा प्रदान की जा रही स्वास्थ्य सेवाओं का लगभग 80 प्रतिशत भाग शहरी क्षेत्रों तक सीमित है। इनका केवल 20 प्रतिशत हिस्सा ही ग्रामीण तथा दूरवर्ती क्षेत्रों में निवास कर रहे लोगों तक पहुँच पाता है । इसका परिणाम यह निकलता है कि ग्रामीण क्षेत्रो में निवास कर रहे लोग इन स्वास्थ्य सेवाओं से लाभान्वित नहीं हो पा रहे हैं। कई क्षेत्रों में ग्रामीण लोग आज भी रोगों के उपचार हेतु देशी नीम-हकीमों या दैवीय शक्तियों का सहारा लेते हैं।इसके अलावा हमारे देश में रोगों के निदान एवं उपचार हेतु उपयोग में ली जाने वाली पद्धतियाँ मुख्य रूप से अंग्रेजी चिकित्सा पर आधारित है जो कि तुलनात्मक बहुत मंहगी है। निम्न आयवर्गीय परिवारों द्वारा इसका खर्च उठा पाना थोड़ा मुश्किल है। स्वास्थ्य केन्द्रों एवं अस्पतालों में चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ, ए.एन.एम. पैरामेडीकल स्टाँफ आदि की संख्या भी उपचार हेतु आने वाले रोगियों की संख्या के अनुपात में नहीं है जो कि बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के क्रियान्वयन में बड़ी बाधा है। इस प्रकार स्पष्ट है कि आज भी स्वास्थ्य संबधी अनेक समस्याओं ने हमे जकड़ा हुआ है जो कि हमारे देश के विकसित राष्ट्रों की श्रेणी में शामिल होने में एक बड़ी बाधा बनी हुई है। हमारी राष्ट्रीय स्वास्थ्य समस्या में एक प्रमुख समस्या चिकित्सा देखभाल की समस्या है।रुरल हेल्थ फाउंडेशन नई दिल्ली चिकित्सा देखभाल की समस्या को खास तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में कम करने हेतु ग्रामीण रोग नियंत्रण, रोकथाम एंव जागरुकता कार्यक्रम का स्वतः संचालन कर रही है, उक्त कार्यक्रम के अन्तर्गत फांउडेशन CMS&ED प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ के माध्यम से उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े अनुभवी इच्छुक लोगों को Emergency Rural Health Worker (आपातकालीन ग्रामीण स्वास्थ्य कर्मी) का तीन माह का दूरस्थ प्रशिक्षण के माध्यम से निःशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उक्त प्रक्षिक्षण के माध्यम से फाउंडेशन ग्रामीँण क्षेत्रो में प्राथमिक उपचार, मलेरिया, टाइफायड, मधुमेह, एन्टीबायोटिक्स दवाइयों का दुष्प्रभाव, टीकाकरण, परिवार नियोजन, आदि महत्वपूर्ण विषयों पर प्रशिक्षण देकर ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा को बेहतर बनाने हेतु कार्य कर रही है।

    कोर्स विवरण -

    कोर्स का नाम - ग्रामीण रोग नियन्त्रक (Rural Disease Controller & Preventer)

    अवधि – 3 माह

    योग्यता – हाईस्कूल उत्तीर्ण

    माध्यम – दूरस्थ प्रशिक्षण(हिन्दी)

    परीक्षा – ऑनलाइन (स्वकेन्द्र)

    फीस विवरण-


    Reg. 250/-
    Admission 500/-
    I-Card 100/-
    Monthly 1000/-
    Exam 600/-
    Total Fee 4450/-

    पाठ्यक्रम -

    नोट- स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े अभ्यर्थियों के लिए यह प्रशिक्षण निःशुल्क है | इच्छुक अभ्यर्थी मात्र 250/- रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा कर प्रशिक्षण हेतु नामांकन करा सकते है | अन्य क्षेत्र से जुड़े अभ्यर्थियों के लिए फीस माफी की सुविधा उपलब्ध नहीं है उन्हें प्रशिक्षण हेतु पूरी फीस 4450/- जमा करनी होगी |

    ALIIED HEALTH INSTITUTE

    (AFFILIATED BY – BSS (NATIONAL HEALTH AGENCY OF INDIA) CODE- UP/8134)

    DIPLOMA IN MEDICAL LABORATORY TECHNOLOGY

    पैथोलॉजी केन्द्र के संचालन (पैथोलॉजी सहायक) एवं सरकारी/गैर सरकारी चिकित्सा केन्द्रों में नौकरी हेतु – Check Detail
    DMLT-300x180

    DIPLOMA IN PHYSICIAN ASSISTANT

    सरकारी/गैर सरकारी चिकित्सा केंद्र में चिकित्सक सहायक के पद पर कार्य एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार केंद्र के स्वतः संचालन हेतु – Check Detail
    man_talking_to_female_doctor.x55984

    CERTIFICATE IN FIRST AID AND PATIENT CARE

    सरकारी/गैर सरकारी चिकित्सा केंद्र में नौकरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार केंद्र के स्वतः संचालन हेतुCheck Detail
    DMLT-300x180

    CMS & ED PRASHIKSHAN SANSTHAN

    (AFFILIATED BY – INDIAN RURAL MEDICAL COUNCIL CODE- IRMCCMS9941)

    CMS & ED

    (COMMUNITY MEDICAL SERVICE & ESSENTIAL DRUGS)

    Duration – 18 Months,
    Egibility- Highschool

    भारत के सर्वोच्च न्यायलय के निर्णय के अनुसार CMS&ED कोर्स करने के बाद भारत के किसी भी ग्रामीण क्षेत्र में प्राइमरी हेल्थ केयर सेन्टर में W.H.O. द्वारा प्रमाणित साधारण एलोपैथिक दवाओं का उपयोग करते हुए प्राथमिक उपचार कर सकते हैं | एवं सरकारी/निजी अस्पतालों में नौकरी हेतु पूर्ण रूप से मान्य है |



    LATEST NEWS

    फैटी लिवर

    लिवर का मुख काम होता है भोजन और अपशिष्ट पदार्थों को प्रोसेस करना। एक स्वस्थ लिवर में फैट बहुत कम ...
    Read More

    विषाक्त भोजन

    फूड पाइजनिंग को खाद्य जनित बीमारी (फूडबोर्न इलनेस) के नाम से भी जाना जाता है, जो दूषित खाद्य पदार्थों का ...
    Read More
    healt
    ग्रामीण स्वास्थ्य सेवायें

    भारत गाँवो का देश है तथा देश की कुल जनसंख्या का लगभग तीन चौथाई भाग ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करता है ।Check Detail

    Indian-Schools-in-RAK-D-13-08-1024x640
    स्कूल स्वास्थ्य सेवाएँ

    स्कूल स्वास्थ्य सेवाओं के अन्तर्गत वे सभी गतिविधियाँ सम्मिलित है जो विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों को – Check Detail

    1-404-1280x720
    मातृ एवं बाल स्वास्थ्य सेवाएं

    माताओं एंव शिशुओं को बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की क्रियान्विति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से – Check Detail

    99cae52792d33
    राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन

    देशवासियों (ग्रामीण एंव शहरी दोनो क्षेत्रों में) को बेहतर रोकथामात्मक, नैदानिक, उपचारात्मक, उन्नायक तथा – Check Detail

    health-care-
    स्वास्थ्य संस्थाएँ

    देशवासियों (ग्रामीण एंव शहरी दोनो क्षेत्रों में) को बेहतर रोकथामात्मक, नैदानिक, उपचारात्मक, उन्नायक तथा – Check Detail